माँ

धीरे धीरे दिन चढ़ता गया और जोश भी ठंडा होता गया।शायद 40 साल का lockdown था और थकान भी। पूरी ज़िंदगी रसोई और पूजा घर मे जो निकला था। कभी दुसरो की पेट पूजा तो कभी भगवान की पूजा , और आशीर्वाद में मिला तो क्या घुटनो में दर्द और कई ऐसे दर्द जो अंदर ही अंदर दब गए हैं रीति रिवाजों के तले।

Continue Reading
Close Menu