Guftagu

इस नाज़-ओ-अंदाज़ से उसने गुफ़्तुगू की दिल ने फ़िर मुहब्बत की जुस्तजू की दिल फिसलने से आखिर बचता भी कैसे बात ही कुछ और थी उस खूब-रू की कूचा-ए-मुहब्बत का…

Continue Reading

Tera Naam

अधूरा तेरा इश्क़ लिखूँ या मुक़म्मल तेरा नाम, ज़ुबाँ पर हो चुका है अब मुक़फ़्फ़ल तेरा नाम, था वो भी एक ज़माना थी मुहब्बत बेपनाह, मेरी हयात से हो चुका…

Continue Reading
Close Menu