Translate

कालरात्रि -द्रौपदी 

2 minutes read

(Inspirational Hindi Kavita )

कविता सन्दर्भ :

The scene of ‘Cheerharan’ is heart breaking. Everyone feels sorry for Draupadi. I felt why did she was left alone there to swallow the act of inhumanity. why didn’t any Man stood up, and cut the heads of Kauravas and Karn? The first duty of a person is to save him/herself’s dignity and then the rest comes.  Ladies hang on and stay with yourself in the battle of power and position !!! This is a Hindi Poem on woman empowerment; representing today’s woman, who should stand up herself against injustice.

कालरात्रि -द्रौपदी

Kaalratree Draupadi-Hindi Poem On Woman Empowerment

आस लगाए द्रौपदी, क्योँ तुम ;

घूम रही हो दरबार में….

जब  शासन है धृतराष्ट्र का ,

तो चीरहरण ही होना है …..

जब कृष्ण सखा भी देर करे ,

माँ कालरात्रि को आव्हाहन दो  …

मद में अंधे कौरवो से स्वयं ही ,

स्व सम्मान की  रक्षा करो …

अभी घडी है निर्णय की.

मत लेना आघात  सम्मान पर

वंश  खड़ा हैँ बरबस पूरा…

मयार्दा के द्वार  पर……

अक्षय पात्र स्वामिनी अन्नपूर्णा

हे पांचाली तुम सरस्वस्ती।

नीतयुवनी तुम दुर्गा भी हो

यज्ञसैनी तुम ही माँ काली।

ये राज्य है हस्तिनापुर का…….

यहाँ  कोई श्रीराम  नहीं

महाभारत तो तय ही है…

तुम माध्यम हो इसका , उत्तरदायी नहीं …

हे नारी, पार्थ तो रणभूमि  में भी दुविधा दर्शाएंगे….

उनके आत्म दर्शन का जिम्मा प्रभु शरणो में डाल दो…..

जब दाव लगा है परिवार का… और  पांसों पर मंतर फूंके है …

तो अब, हे सैरंध्री, तुम भी अपने मन से ,सारे बोझ उतार दो….

ना श्राप दो , ना अश्रु दो… न दे दो उन्हें लाचारगी

खडी  रहो अडिग अविचल … न देना दुहाई संबंधों की……

ये परिवार नहीं ये बैरी  हैं…. ये तुम्हारी रणभूमि है , दरबार नहीं

यही पराजित कर  दो इनको  …. यही है धर्म तुम्हारा, ये दुर्व्यवहार नहीं |

Sucheta Asrani

Read More : Hindi Poem on woman empowerment

Share on facebook
Facebook 0
Share on google
Google+ 0
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn 0
Share on whatsapp
WhatsApp

Leave a Reply

This Post Has 4 Comments

  1. Very nicely portrayed the feelings of an everyday woman from the period epic…

  2. बहुत ही सुन्दर।
    यही पराजित कर दो इनको …. यही है धर्म तुम्हारा, ये दुर्व्यवहार नहीं |

  3. Hello Sucheta,
    Very nice selection of words and put them all together this way… very creative work. I’ve got a feeling this is only the beginning of even more great things to come for you! Congratulations .. keep the good work and rhythm going…best of luck

  4. Beautifully written poem.. 👌🏻👌🏻👏🏻👏🏻

Leave a Reply

Close Menu